Faridabad News: आधार कॉर्ड यूज करने वालों के लिए जरुरी खबर

Faridabad News: आधार कॉर्ड यूज करने वालों के लिए जरुरी खबर

Faridabad News, 28 सितम्बर। उप महानिदेशक डीडीजी भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण यूआईडीएआई भावना गर्ग की अध्यक्षता में जिला प्रशासन के साथ जिला फरीदाबाद में आधार प्रगति पर एक समीक्षा बैठक की गई। बैठक में डीसी विक्रम, एसडीएम फरीदाबाद परमजीत चहल, सीटीएम अमित मान, एसीपी सतपाल यादव, डीआईओ मुनेष बाबु अग्रवाल, स्वास्थ्य, शिक्षा, डब्ल्यूसीडी, बैंक सहित  विभिन्न विभागों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

उप महानिदेशक डीडीजी भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण यूआईडीएआई भावना गर्ग ने बताया कि भारत सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार आजादी के अमृत महोत्सव की श्रंखला में यूआईडीएआई द्वारा दस्तावेज़ अपलोड का एक नया प्रावधान पेश किया गया है। जिसके माध्यम से निवासी अपने नवीनतम दस्तावेज़ आधार डेटाबेस में अपलोड कर सकते हैं। यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से उपयोगी है जिनके आधार कार्ड 10 साल से अधिक समय पहले जारी किए गए थे।

उन्होंने संबंधित अधिकारियों को इस प्रावधान के बारे में निवासियों को जागरूक करने को कहा ताकि अधिक से अधिक लोग इसका लाभ उठा सकें। इस सुविधा का लाभ ऑनलाइन के साथ-साथ आधार केंद्र पर जाकर भी उठाया जा सकता है। डीडीजी भावना गर्ग ने विशेष रूप से 0-5 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों के लिए आधार नामांकन पूरा करने पर जोर दिया और इसके लिए आधार नामांकन जिला प्रशासन द्वारा आयोजित किया गया। 

डीडीजी ने जोड़ा कि 0-5 वर्ष की आयु वर्ग को कवर करने के लिए आंगनबाड़ी केंद्रों में विशेष आधार नामांकन अभियान भी चलाया जा सकता है। उन्होंने टीकाकरण शिविरों और जन्म इकाइयों में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंकों द्वारा नामांकन को आगे बढ़ाने पर जोर दिया। डीडीजी ने आगे कहा कि फरीदाबाद जिला को 5 और 15 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद बच्चों के लिए अनिवार्य बायोमेट्रिक अपडेट को पूरा करने पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है। अनिवार्य बॉयोमीट्रिक अपडेशन निशुल्क है। यदि आधार धारक द्वारा ऐसी आयु प्राप्त करने के 2 वर्ष के भीतर बायोमेट्रिक को अपडेट नहीं किया जाता है, तो आधार निष्क्रिय हो सकता है। किसी भी जनसांख्यिकीय अद्यतन के लिए जैसे पता, नाम में अद्यतन/सुधार, जन्मतिथि, लिंग शुल्क 50 रुपये हैं और बायोमेट्रिक अपडेट के लिए यानी आधार शुल्क में फोटोग्राफ या आईरिस या उंगलियों के निशान को अपडेट करने के लिए 100 रुपये हैं। अधिक शुल्क के मामले में, निवासी 1947 टोल फ्री पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं। 

डीडीजी भारत सरकार ने कहा कि निवासी अपने मोबाइल फोन पर एम आधार भी डाउनलोड कर सकते हैं जो उन्हें न केवल अपने मोबाइल फोन पर आधार रखने की अनुमति देता है। बल्कि निवासियों को कई ऑनलाइन आधार सेवाओं का लाभ उठाने में भी मदद करता है। mAadhaar ऐप भी निवासियों को आधार में अपने बायोमेट्रिक को लॉक करने की अनुमति देता है। उन्होंने कहा कि आधार के लिए नामांकन/अपडेशन करते समय निवासी को अपने विवरणों की सावधानीपूर्वक जांच करनी चाहिए क्योंकि आधार में नाम, जन्मतिथि और लिंग जैसे विवरणों को अपडेट करने की एक सीमा है। जबकि आधार में नाम दो बार अपडेट किया जा सकता है, जन्म तिथि और लिंग को एक बार सही किया जा सकता है।

6

No Responses

Write a response