फरीदाबाद पुलिस ने 2 दिन में इम्पाउंड की पटाखे वाली 30 बुलेट, मैकेनिकों को दी सख्त हिदायत

फरीदाबाद पुलिस ने 2 दिन में इम्पाउंड की पटाखे वाली 30 बुलेट, मैकेनिकों को दी सख्त हिदायत

फरीदाबाद- डीसीपी ट्रैफिक नितीश अग्रवाल के द्वारा बुलेट मोटरसाइकिल के साइलेंसर में मॉडिफाई कर ध्वनि प्रदूषण फैलाने के खिलाफ चलाए गए अभियान पर कार्रवाई करते हुए फरीदाबाद के सभी सेक्टर में उपस्थित ऑटोमोबाइल मार्केट के मोटरसाइकिल मैकेनिक, दुकानदार और वेल्डर के साथ,  अपने कार्यालय में मीटिंग की..

इस मीटिंग में एसएचओ ट्रैफिक दर्शन कुमार, तीनों जॉन के टीआई के सहित दुकानदार, मैकेनिक और वैल्डर मौजूद रहे। जिसमें मनोज भारद्वाज सेक्टर 11, सुरेश बल्लभगढ़ चावला कॉलोनी, आस मोहम्मद सेक्टर 3, आकाश एनआईटी-5 नंबर, सोनू सेक्टर 22 , महम्मुद और विनोद एनआईटी-1 नंबर, मनदीप, गौरव और सतनाम बाटा रोड एनआईटी, एचपी नरूला, नरेंद्र सिंह और राजकुमार एनआईटी-2, हेतराम संजय कॉलोनी, संजय और सलीम एसजीएम नगर मीटिंग में मौजूद रहे।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि एसीपी ट्रैफिक ने आज अपने कार्यालय में बताया कि फरीदाबाद पुलिस के द्वारा बुलेट मोटरसाइकिल के साइलेंसर मॉडिफाई करवाकर ध्वनि प्रदूषण करने के खिलाफ चलाए गए अभियान में  के संबंध में फरीदाबाद के ऑटोमोबाइल सेक्टर में उपस्थित सभी मोटरसाइकिल मैकेनिक, दुकानदार और वेल्डरों के साथ मीटिंग की।

बुलेट मोटरसाइकिल अन्य वाहन साइलेंसर को मॉडिफाई करवा कर  पटाखे जैसी आवाज से दहशत फैलाने काम करते हैं। उन्होंने मोटरसाइकिल के साइलेंसर  को मॉडिफाई न करने की हिदायत देते उल्लंघन करने पर कानूनी कार्रवाई के सख्त निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि मोटरसाइकिल के साइलेंसर में मॉडिफाई होने के कारण कई बार दुर्घटना हुई है। इसीलिए इस समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए मोटरसाइकिल मॉडिफाई करने वाले मैकेनिक, दुकानदार और वेल्डर के साथ मीटिंग कर ऐसा न करने की सख्त हिदायत दी है।

मीटिंग के दौरान उन्होंने कहा कि अगर किसी बुलेट मोटरसाइकिल के मॉडिफाई सिलेंडर के चालान होते हैं तो मोटरसाइकिल मालिक से मॉडिफाई कराने के संबंध में जानकारी ली जाएगी अगर फरीदाबाद में किसी भी मैकेनिक्स का नाम 1 अक्टूबर के बाद आया तो उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी। साथ ही सभी को हिदायत दी गई है कि सभी अपनी दुकानों के सामने एक बोर्ड लगाएंगे जिस पर लिखा होगा “इस दुकान पर मोटरसाइकल के साइलेंसर में मॉडिफाई कार्य नहीं किया जाता यह कानूनी अपराध है”।

उन्होंने ट्रैफिक एसएचओ और सभी टीआई को दिशा निर्देश दिए हैं कि वह सभी अपने अपने एरिया में गस्त करके सभी दुकानदार, मैकेनिक और वैल्डर को इस संबंध में सूचित करेंगे और यदि कोई ऐसा करता पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करेंगे। अक्सर देखने में आता है कि कुछ आवारा किशन के लड़के बाइक से गर्ल्स स्कूल और कॉलेज के आसपास बाइक से पटाखा छोड़ने की आवाज करते हैं इस संबंध में सभी टीआई को अपने एरिया में आने वाले स्कूल कॉलेज के आसपास गस्त करने के दिशा निर्देश दिए हैं। ट्रैफिक पुलिस द्वारा इंपाउंड की गई बाइक को चालान भरने के बाद तभी छोड़ा जाएगा जब वह (वाहन मालिक) नियमों के अनुसार साइलेंसर लगाएंगे।

3

No Responses

Write a response